Wieso nicht? | जर्मन सीखिए | Deutsche Welle

एडवांस जर्मन रिश्चतों में तनाव, डेंटिस्ट के पास जाना, लॉज, सुपरमार्केट: रोज़ के जीवन से जुड़े बीस ऑडियो. इस ऑडियो कोर्स से आपका जर्मन भाषा ज्ञान और अच्छा होगा.

0 Likes     0 Followers     1 Subscribers

Sign up / Log in to like, follow, recommend and subscribe!

Website
http://www.dw.de/dw/0,,11083,00.html?maca=hin-DKpodcast_wiesonicht_hin-6166-xml-mrss
Description
एडवांस जर्मन रिश्चतों में तनाव, डेंटिस्ट के पास जाना, लॉज, सुपरमार्केट: रोज़ के जीवन से जुड़े बीस ऑडियो. इस ऑडियो कोर्स से आपका जर्मन भाषा ज्ञान और अच्छा होगा.
Language
🇮🇳 Hindi
last modified
2019-01-11 13:43
last episode published
2011-10-21 10:14
publication frequency
4.41 days
Contributors
DW.COM | Deutsche Welle author   owner  
Explicit
false
Number of Episodes
20
Rss-Feeds
Detail page
Categories
Education K-12 Higher Education Language Courses

Recommendations


Episodes

Date Thumb Title & Description Contributors
21.10.2011

पाठ 20 – दर्द से डर

दर्द से डर या कैसे मेरी मुलाकात सामंत आलुकार्ड से हुई.
DW.COM | Deutsche Welle author
10.08.2011

पाठ 19 – सलाद खत्म

सलाद खत्म या कैसे मेरे सपने में घोंघे रेंग रहे थे.
DW.COM | Deutsche Welle author
10.08.2011

पाठ 18 – घोंघा नीति

घोंघा नीति या कैसे हमने घोंघे बागीचे से बाहर निकाले.
DW.COM | Deutsche Welle author
10.08.2011

पाठ 17 – रसोई में टेलीफोन

रसोई में टेलीफोन या कैसे वह जंगली जानवर भूखा ही रह गया.
DW.COM | Deutsche Welle author
10.08.2011

पाठ 16 – पेट में चूहे कूद रहे हैं.

जंगली जानवर या कैसे मैंने फ्लैट के साथियों के लिए खाना बनाया.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 15 – एक नया घर

एक नया घर या कैसे मेरी घड़ी फिर शुरू हुई.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 14 – मरम्मत करना बेकार है.

मरम्मत करना बेकार है या कैसे मैं अपने दोस्त से अलग हुई.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 13 – अगली सुबह

अगली सुबह या कैसे विदूषक को गुस्सा आया.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 12 – गांव में उत्सव

गांव में उत्सव या कैसे पड़ोसी को सिर दर्द हुआ.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 11 – भेड़ गिनना

भेड़ गिनना या कैसे विदूषक मछली पकड़ते हुए सो जाता है.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 10 – मछली पकड़ने का आनंद

मछली पकड़ने का मजा या कैसे पड़ोसी एक दूसरे को ही पकड़ लेते हैं.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 09 – विदूषक

विदूषक या कैसे मुझे चिट्ठियां मिलीं.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 08 – कोल्ष बीयर का एक दौर

एक बार सबके लिए कोल्ष या कैसे लीसा फ्र्यूह में बहुत जल्दी पहुंच गई.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 07 – सटीक 320 मीटर

सटीक 320 मीटर या कैसे लूत्सेर्न में मेरी एक स्विस निवासी से मुलाकात हुई.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 06 – काली पीली सबीने

काली पीली सबीने या कैसे मेरी दोस्त बोरुसिया फैन बनी.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 05 – शनिवार को फुटबॉल

शनिवार को फुटबॉल या कैसे मेरी दोस्त डॉर्टमुंड पहुंची.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 04 – सबको हरी बत्ती

सभी को हरी झंडी या कैसे ट्रैफिक लाइट ने मुझे नाचने पर मजबूर किया.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 03 – ब्रेकफास्ट

ब्रेकफास्ट या कैसे मैं दिन को रात में बदलूं.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 02 – सर्कस जारी है

सर्कस जारी है या बिना चोरी किए कैसे कोई चोरी कर सकता है.
DW.COM | Deutsche Welle author
29.07.2011

पाठ 01 – सुपर मार्केट में सर्कस

सुपर मार्केट में सर्कस. बारिश के कारण कैसे लोग एकजुट होते हैं.
DW.COM | Deutsche Welle author